Fire due to short circuit, cylinder burst, 95 lakh 200 bedded shelter ashes in 25 minutes | शाॅर्ट सर्किट से आग, सिलेंडर फटा, 25 मिनट में ‌‌95 लाख का 200 बेड वाला बसेरा राख

रोहतकएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक
रैन बसेरे में ऊपर-नीचे 4-4 कमरे बने थे। नगर निगम के अफसर जगदीश चंद्र शर्मा ने बताया कि जिस एजेंसी ने रैन बसेरा बनाया था उसकी टीम से फोन पर बात हुई है। वह 19 जुलाई को मौका मुआयना करने आएगी। - Dainik Bhaskar

रैन बसेरे में ऊपर-नीचे 4-4 कमरे बने थे। नगर निगम के अफसर जगदीश चंद्र शर्मा ने बताया कि जिस एजेंसी ने रैन बसेरा बनाया था उसकी टीम से फोन पर बात हुई है। वह 19 जुलाई को मौका मुआयना करने आएगी।

  • जिंदा जलने से बचे 10 लोग, दमकल ने दोपहर 3:30 बजे बुझाई आग

भिवानी रोड बना शहर का एकमात्र रैन बसेरा रविवार दोपहर करीब 1:40 बजे लगी आग में खाक हो गया। प्रदेश के चुनिंदा रैन बसेरा प्रोजेक्ट में शहर में 95 लाख लागत से बना यह 200 बेड का मॉडल रेन बसेरा था। इसमें 100 बेड पुरुषों और 100 महिलाओं के लिए थे। आग लगने का कारण रसोई के पास शॉर्ट सर्किट से उठी चिंगारी बताई जा रही है। गनीमत रही कि इस हादसे में कोई जानी नुकसान नहीं हुआ।

बसेरे में दो परिवारों के 10 लोग रहते थे, जिन्होंने समय रहते भागकर अपनी जान बचाई। इनमें बच्चे भी शामिल हैं। इनके मुताबिक 4 माह में 3 बार यहां तारों में शॉर्ट सर्किट हो चुका था। हर बार निगम को इसकी शिकायत की गई। लेकिन कर्मचारी यहां आकर खानापूर्ति करते और रिपोर्ट ओके कर चले जाते। रविवार को हुई घटना के समय यहां के चौकीदार के परिवार में बेटे के जन्म पर खुशियां मनाने के लिए रिश्तेदार जुटे हुए थे।

2 परिवारों के 10 लोग अंदर मौजूद थे। उन्होंने बताया कि शॉर्ट सर्किट के बाद बिजली के तारों में लगी आग कुछ ही देर में रसोई घर में पहुंच गई। वहां रखे एक सिलेंडर में विस्फोट के बाद आग ने भयंकर रूप ले लिया। परिवार ने मुश्किल से बाहर निकल जान बचाई।

आसपास की दुकानाें के लाेगाें ने जब ये मंजर देखा ताे उन्होंने फायर ब्रिगेड को सूचना दी। दमकल की गाड़ियां भी कुछ मिनट में ही वहां पहुंच गई। लेकिन आग बसेरे और यहां रखे सारे सामान को खाक करने के बाद ही शांत हुई। प्रत्यदर्शियों के अनुसार 25 मिनट में आग ने सब खाक कर दिया। दमकल की चार गाड़ियों ने दोपहर 3:30 बजे तक आग पर काबू पाया।

सबसे पहले…फोम और सोलर प्लेट में लगी आग, गनीमत रही… पोता होने की खुशी मना रहा चौकीदार का परिवार बच गया

रैन बसेरे के चौकीदार की पत्नी सुदेश ने बताया कि परिवार में पोते के जन्म की खुशी परिवार मना रहा था। रविवार को बहू के मायके वाले पीलिया लेकर आ रहे थे। वो रसोई में खाना बना रही थी। तारों से होते हुए आग सिलेंडर तक पहुंच गई। शोर मचाया तो सभी लोग सामान छोड़ बाहर भागे। मुश्किल से जान बच पाई।

सुदेश ने बताया कि शाॅर्ट सर्किट के कारण पहले आग चदर, फोम और सोलर प्लेट में लग गई। इसके बाद रसोई में आग घुस गई। इसके बाद सिलेंडर के आग पकड़ने के बाद आग ने भयंकर रूप धारण कर लिया। दो परिवारों के लोगों ने भागकर अपनी जान बचाई। अगर थोड़ी सी भी देरी हाेती तो लोगों की जान जा सकती थी। उन्होंने बताया कि परिवार के सभी लोग इस हादसे के बाद से घबराए हुए हैं। अगर रात या देर रात हादसा होता तो भयंकर परिणाम हो सकता था।

टाइमलाइन-

  • 1:40 बजे दोपहर में शाॅर्ट सर्किट से लगी आग।
  • 1:50 बजे चौकीदार ने सीपीओ जगदीश चंद्र शर्मा को बताया।
  • 2:01 बजे शहर के एलीवेटेड रोड से होकर मौके पर पहुंची दमकल विभाग की टीम।

प्रत्यक्षदर्शी की आंखों देखी- …भड़की आग से बचाने के लिए ट्रकों को दूर किया
रेन बसेरे के पास ही रेती-बजरी की दुकान करने वाले प्रत्यक्षदर्शी बिजेंद्र सिंह ने बताया कि लोगों को जैसे ही लपटें दिखीं तो आसपास खड़े ट्रकों और अन्य वाहनों को वहां से दूर किया। आग इतना भयंकर रूप धारण कर चुकी थी,आसपास में खड़े वाहन भी आग की लपटों के बीच आ सकता। रैन बसेरे में रहने वाले लोग बाहर भागकर निकले। सभी घबराए हुए थे। आसपास के लोगों ने उन्हें संभाला।

महिला का आरोप- शॉर्ट सर्किट होने पर हर बार नगर निगम कर्मचारी केवल खानापूर्ति करके चले जाते थे
चौकीदार की पत्नी सुदेश ने आरोप लगाया है 4 महीने में 2-3 बार शाॅर्ट सर्किट के कारण आग लग चुकी है। शिकायत के बाद निगम के कर्मचारी खानापूर्ति करके चले जाते थे। अगर समय रहते बिजली का मेंटनेंस किया जाता तो इतना बड़ा हादसा टल सकता है।

इस हादसे से पहले शाॅर्ट सर्किट के कारण आग लगने का मामला संज्ञान में नहीं है। गठित की गई जांच टीम एक सप्ताह में रिपोर्ट देगी। -प्रदीप गोदारा, कमिश्नर नगर निगम रोहतक।

खबरें और भी हैं…

Source link

Leave a Comment